Sunday, February 5, 2023
Google search engine
Homeट्रेंडिंग21 साल के खिलाड़ी ने तोड़ा भारत का सपना, जानें कौन हैं...

21 साल के खिलाड़ी ने तोड़ा भारत का सपना, जानें कौन हैं सीन फाइनले


नई दिल्ली: भारत और न्यूजीलैंड के बीच खेले गए क्रॉसओवर मैच में न्यूजीलैंड ने टीम इंडिया को पेनल्टी शूटआउट में 5-4 से हरा दिया. दोनों टीमों के बीच हुए रोमांचक मुकाबले में फुल टाइम तक स्कोर 3-3 से बराबरी पर था, लेकिन इसके बाद न्यूजीलैंड की टीम ने सांस रोक देने वाले पेनल्टी शूटआउट में 5 गोल कर भारत के वर्ल्ड कप के सपने को तोड़ दिया. इस हार के बाद टीम इंडिया वर्ल्ड कप से बाहर हो गई है, वहीं न्यूजीलैंड की टीम ने क्वार्टर फाइनल में जगह बना ली है. भारत अब 26 जनवरी को वर्गीकरण दौर में जापान से खेलेगा। क्वार्टर फाइनल में न्यूजीलैंड का सामना बेल्जियम से होगा।

न्यूजीलैंड के हीरो बने 21 साल के सीन फिंडले

टीम इंडिया ने अच्छी शुरुआत की, लेकिन फुल टाइम से पहले ही न्यूजीलैंड ने जोरदार वापसी की. न्यूजीलैंड के 21 वर्षीय हॉकी खिलाड़ी सीन फाइंडले फुल टाइम से ठीक पहले न्यूजीलैंड के लिए तीसरा गोल दागकर टीम के हीरो रहे। इसके बाद उन्होंने पेनल्टी शूटआउट में 2 गोल कर टीम को शानदार जीत दिलाई। उनके शानदार प्रदर्शन के लिए उन्हें प्लेयर ऑफ द मैच का पुरस्कार दिया गया। न्यूजीलैंड के लिए केन रसेल और सैम लेन ने भी गोल किए।

शॉन फाइंडले कौन है?

सीन एथन फाइंडले का जन्म 5 दिसंबर 2001 को हॉक्स बे, न्यूजीलैंड में हुआ था। वह न्यूजीलैंड के लिए मिडफील्डर के रूप में खेलते हैं। फाइंडले ने जोहोर बाहरू में 2019 जोहोर कप में न्यूजीलैंड अंडर -21 टीम के लिए अपनी शुरुआत की। दिसंबर 2020 में, Findlay को पहली बार ब्लैक स्टिक्स दस्ते में नामित किया गया था। उन्हें भारत में होने वाले FIH जूनियर विश्व कप के लिए 2021 की टीम में भी नामित किया गया था। फाइंडले ने 2021 में पामर्स्टन नॉर्थ में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ हॉकी श्रृंखला के दौरान अपनी वरिष्ठ राष्ट्रीय टीम की शुरुआत की। खास बात यह है कि उन्होंने अपने डेब्यू मैच में भी एक गोल किया है।

महज 19 साल की उम्र में ओलिंपिक डेब्यू किया

सीन फाइंडले ब्लैक स्टिक्स के लिए मौजूदा अंडर-21 प्लेयर ऑफ द ईयर हैं। उन्होंने टोक्यो में ओलंपिक में पदार्पण किया। खास बात यह है कि महज 19 साल की उम्र में सीन ने टोक्यो ओलिंपिक में एंट्री लेकर दुनिया को चौंका दिया था। उनकी मां का देहांत टोक्यो ओलिंपिक से पहले हो गया था। जबकि वे खुद बीमार रहे। उन्हें उत्कृष्ट कौशल और बहुमुखी प्रतिभा के लिए जाना जाता है।



RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments