Wednesday, February 1, 2023
Google search engine
Homeप्रदेशउत्तर प्रदेश / उत्तराखंडभू-धंसाव के अध्ययन में जुटी 8 संस्थाएं, प्रशासन ने इस गांव को...

भू-धंसाव के अध्ययन में जुटी 8 संस्थाएं, प्रशासन ने इस गांव को चिन्हित किया


जोशीमठ डूब रहा है: उत्तराखंड के जोशीमठ डूबने का संकट थमने का नाम नहीं ले रहा है। कल्बे में जमीन धंसने को लेकर आईआईटी रुड़की, वाडिया इंस्टीट्यूट समेत केंद्र और राज्य सरकार की करीब आठ एजेंसियों को स्टडी में लगाया गया है। इसके अलावा जिला प्रशासन लोगों के पुनर्वास में लगा हुआ है. जिला प्रशासन अब सुरक्षित गांव की तलाश में जुट गया है।

जिलाधिकारी ने मौके पर जाकर मौका मुआयना किया

चमोली के जिलाधिकारी हिमांशु खुराना ने कहा कि जोशीमठ से विस्थापित हुए लोगों को यहां सुरक्षित गांव ढाका में बसाने की योजना बनाई जा रही है. आरडब्ल्यूडी को ढाका में जमीन का कंटूर नक्शा जल्द उपलब्ध कराने के निर्देश दिए। प्रभावित लोगों से सुझाव लेकर सीबीआरआई द्वारा विस्थापन की विस्तृत योजना तैयार की जा रही है।

सब्सिडी वाले घरों की संख्या लगातार बढ़ रही है।

इसी क्रम में चमोली डीएम ने जोशीमठ के ढाका गांव में चिन्हित भूमि का मौके पर निरीक्षण किया. जिला प्रशासन द्वारा बताया गया है कि अब तक 863 भवनों को चिन्हित किया जा चुका है। जहां भूस्खलन के कारण दरारें मिली हैं। इसमें से 181 भवनों को असुरक्षित जोन में रखा गया है.

इतने झुके बिजली के खंभे

ताजा जानकारी के मुताबिक जोशीमठ में करीब 70 बिजली के खंभे और कुछ ट्रांसफार्मर झुकने लगे हैं. उत्तराखंड पावर कॉरपोरेशन के अधिकारी भी सक्रिय हो गए हैं। जोशीमठ में बिजली आपूर्ति की संभावित समस्या से निपटने के लिए काम किया जा रहा है. यूपीसीएल के प्रबंध निदेशक अनिल कुमार ने बताया कि 33/11 केवी क्षमता का सब स्टेशन पानी के रिसाव वाली जगह से करीब 50 मीटर की दूरी पर स्थित है.



RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments