Tuesday, January 31, 2023
Google search engine
Homeप्रदेशउत्तर प्रदेश / उत्तराखंडदिल्ली एनसीआर के बाद उत्तराखंड में महसूस किए गए भूकंप के झटके

दिल्ली एनसीआर के बाद उत्तराखंड में महसूस किए गए भूकंप के झटके


भूकंप समाचार: दिल्ली एनसीआर के बाद उत्तराखंड में सुबह करीब 6.27 बजे पिथौरागढ़ में भूकंप के झटके महसूस किए गए। भूकंप की तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 4.3 मापी गई। नेशनल सेंटर फॉर सीस्मोलॉजी के अनुसार, भूकंप की गहराई जमीन से 5 किमी नीचे थी। उधर, मंगलवार रात दिल्ली एनसीआर समेत नेपाल में भूकंप के झटके महसूस किए गए। नेपाल में भूकंप के झटके के बाद एक इमारत ढह गई, जिससे छह लोग मलबे में दब गए।

जानकारी के मुताबिक मंगलवार दोपहर करीब 2 बजे भारत, चीन और नेपाल में एक साथ भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए. रिक्टर पैमाने पर भूकंप की तीव्रता 6.3 मापी गई।

भारत के इन राज्यों में महसूस किए गए भूकंप के झटके

भारत में मंगलवार देर रात दिल्ली, यूपी, बिहार, उत्तराखंड, दिल्ली, मध्य प्रदेश, हिमाचल प्रदेश और जम्मू-कश्मीर के कुछ शहरों में भूकंप के झटके महसूस किए गए। दिल्ली के अलावा नोएडा, गाजियाबाद और गुरुग्राम में भी झटके महसूस किए गए। यूएसजीएस के मुताबिक भूकंप का केंद्र नेपाल के दिपायल से 21 किलोमीटर दूर था। दीपायल में देर शाम भी भूकंप के झटके महसूस किए गए।

केंद्र नेपाल में जमीन से 10 किमी नीचे था

नेशनल सेंटर फॉर सीस्मोलॉजी के अनुसार, भूकंप का केंद्र उत्तराखंड में भारत-नेपाल सीमा पर जमीन से लगभग 10 किमी नीचे बताया गया है। भूकंप के झटके सबसे पहले मंगलवार रात 8:52 बजे महसूस किए गए। इसकी तीव्रता लगभग 4.4 थी। जबकि इसके बाद रात 11 बजकर 57 मिनट पर फिर भूकंप के झटके महसूस किए गए। इसका केंद्र मिजोरम राज्य में बताया गया है।

कितनी तीव्रता का भूकंप कितना खतरनाक

0 से 1.9 – सिस्मोग्राफी से ही पता चलेगा।
2 से 2.9- हल्के झटके महसूस होते हैं।
3 से 3.9- यदि कोई तेज रफ्तार वाहन आपके पास से गुजरता है तो इसका ऐसा प्रभाव पड़ता है।
4 से 4.9- खिड़कियां हिलने लगती हैं। दीवारों पर लटकी चीजें गिर जाती हैं।
5 से 5.9- घरों के अंदर रखे सामान जैसे फर्नीचर आदि हिलने लगते हैं।
6 से 6.9- कच्चे मकान व मकान गिरते हैं। घरों में दरारें आ गई हैं।
7 से 7.9- भवनों और घरों को नुकसान होता है। इतनी तीव्रता का भूकंप 2001 में गुजरात के भुज में और 2015 में नेपाल में आया था।
8 से 8.9 – बड़ी इमारतें और पुल ढह जाते हैं।
9 और ऊपर – सबसे अधिक तबाही। यदि कोई खेत में खड़ा है तो वह भी पृथ्वी को हिलता हुआ देखेगा। जापान में 2011 की सुनामी की तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 9.1 मापी गई।



RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments