Wednesday, February 8, 2023
Google search engine
Homeप्रदेशउत्तर प्रदेश / उत्तराखंडतोड़फोड़ का काम रुका, मीटर में दरार ने दिए बड़े संकेत

तोड़फोड़ का काम रुका, मीटर में दरार ने दिए बड़े संकेत


जोशीमठ हिमपात: उत्तराखंड के जोशीमठ में गुरुवार रात से भारी बर्फबारी शुरू हो गई है। इस दौरान दरार वाले मकान व भवनों को तोड़ने का कार्य प्रभावित हुआ है. चमोली के जिलाधिकारी को इसकी जानकारी है. वहीं लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने का काम जारी है. जोशीमठ ही नहीं, बल्कि उत्तराखंड के कई ऊपरी हिस्सों में भारी बर्फबारी (जोशीमठ स्नोफॉल) हो रही है।

बर्फबारी से मजदूरों को हुई परेशानी, काम ठप

न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक, उत्तराखंड के चमोली जिलाधिकारी हिमांशु खुराना ने बताया कि जोशीमठ में भारी बर्फबारी और बारिश के कारण मजदूर काम नहीं कर पा रहे हैं, इसलिए जोशीमठ में चल रहा तोड़ फोड़ का काम फिलहाल के लिए रोक दिया गया है. मौसम में सुधार होने पर काम फिर से शुरू करेंगे।

बद्रीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति के अध्यक्ष ने चेक सौंपा

इसके अलावा श्री बद्रीनाथ केदारनाथ मंदिर समिति के अध्यक्ष अजेंद्र अजय ने शुक्रवार को सीएम कैंप कार्यालय में उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से मुलाकात की. इस बीच, अजेंद्र अजय ने जोशीमठ में प्रभावित लोगों की मदद के लिए मुख्यमंत्री राहत कोष में 5 लाख रुपये का चेक सौंपा।

राज्य के इन इलाकों में भारी बर्फबारी

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, जोशीमठ में आपदा के बाद यह पहली बर्फबारी और बारिश है. इससे लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा है। आपदा के कारण सैकड़ों लोगों को अपना घर छोड़कर अस्थायी आश्रय स्थलों में रहना पड़ रहा है। राज्य के धनोल्टी, केदारनाथ, मसूरी और पिथौरागढ़ जिलों में भी भारी हिमपात हुआ है।

अभी और खराब रहेगा मौसम, चेतावनी जारी

मौसम विभाग ने 19, 20, 23 और 24 जनवरी को जोशीमठ, चमोली और पिथौरागढ़ में बारिश और बर्फबारी की भविष्यवाणी की थी। मौसम विज्ञान केंद्र देहरादून के निदेशक बिक्रम सिंह ने इससे पहले एएनआई को बताया था कि 19 और 20 जनवरी को बारिश की संभावना है। जबकि 23 और 24 जनवरी को बारिश के साथ-साथ बर्फबारी भी हो सकती है।

बदरीनाथ हाईवे खुला, बाकी रास्ते बंद

इस बीच, बर्फबारी के कारण असुरक्षित घोषित किए गए होटल मलारी इन और माउंट व्यू को तोड़ने का काम रोक दिया गया है. इसके अलावा बद्रीनाथ हाईवे को खोल दिया गया है, क्योंकि कई सड़कें बर्फबारी के कारण बंद हो गई हैं. इसके अलावा जोशीमठ भी बिजली कटौती का सामना कर रहा है।

दरारों में वृद्धि नहीं, सकारात्मक संकेत मिले

आपदा प्रबंधन सचिव डॉ. रंजीत कुमार सिन्हा ने बताया कि सीबीआरआई द्वारा भवनों में दरारें नापने के लिए लगाए गए क्रेक मीटरों ने संकेत दिया है कि पिछले तीन दिनों में दरारों की चौड़ाई में कोई वृद्धि नहीं हुई है. प्रबंधन सचिव ने कहा कि यह सकारात्मक संकेत है। वहीं राज्य के सीएम ने राज्य के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक भी की.



RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments