Thursday, December 8, 2022
Google search engine
Homeप्रदेशराजस्थानरेल अधिकारी की तबादला पार्टी में छला जाम, डीआरएम ने गाया ये...

रेल अधिकारी की तबादला पार्टी में छला जाम, डीआरएम ने गाया ये गाना


केजे श्रीवत्सन, कोटा: कोटा में एक रेल अधिकारी की तबादला पार्टी में भारी ट्रैफिक जाम और डीआरएम द्वारा गाए-गाने का मामला सामने आया है. गुरुवार की आधी रात के बाद तक पार्टी चलती रही। यहां खाने में हर तरह के व्यंजन मिलते थे।

सूत्रों ने बताया कि हाल ही में मिशन हाई स्पीड में मुख्य परियोजना प्रबंधक के पद पर कार्यरत अभिमन्यु सेठ का तबादला दिल्ली में अपर मंडल रेल प्रबंधक के पद पर किया गया था. इस पार्टी का आयोजन अभिमन्यु को विदाई देने के लिए किया गया था. मंद रोशनी वाली पार्टी में लगभग सभी अधिकारी शामिल हुए। पार्टी में कई अफसरों ने जमकर शराब का लुत्फ उठाया। कई अधिकारियों के टेबल पर शराब की बोतलें रखी नजर आईं। पीने की कोई सीमा नहीं थी, जो जितना चाहे पी सकता है।

सूत्रों ने बताया कि इसका फायदा उठाकर एक-दो अधिकारी पूरी तरह आपा खो बैठे। उसने इतनी शराब पी ली कि उसके होश ही उड़ गए। कार चालकों ने बड़ी मुश्किल से उन्हें बंगले तक पहुंचाया। पिछले साल 31 दिसंबर की रात इसी जगह न्यू ईयर पार्टी में नशे में धुत होकर डीजे की पिटाई करने वाले अफसर भी ताने मारने वालों में शामिल थे.

आप मेरे दिल की धड़कन हैं…

इस पार्टी में डीआरएम मनीष तिवारी भी मौजूद रहे। तिवारी भी पार्टी को खूब एन्जॉय करते नजर आए। तिवारी ने इस अवसर पर मंच पर गीत भी गाया। ‘तू मेरे दिल की धड़कन है, तेरे बिना मेरा मन नहीं लगता, मेरी ये दो आँखे तुझे ढूंढती रहती हैं…’ तिवारी के इस गाने पर ऐसे मौकों की तलाश कर रहे अधिकारियों ने तारीफों के पुल बांध दिए. नशे में झूमते हुए ये अधिकारी तिवारी की धुन पर थिरकते नजर आए.

गौरतलब है कि तिवारी को भी दोपहर 1:45 बजे मुंबई-अमृतसर डीलक्स ट्रेन से दिल्ली जाना था. इसके चलते तिवारी का रात साढ़े दस बजे स्टेशन पर खड़े सैलून में सोने का कार्यक्रम था। लेकिन तिवारी दोपहर 12:30 बजे तक भी सैलून नहीं पहुंचे। स्टेशन स्टाफ तिवारी के सैलून के पास आने का इंतजार कर रहा था।

हादसे के समय कई अधिकारी नहीं पहुंचते हैं

सूत्रों ने बताया कि ऐसे समय में कहीं से भी हादसे की खबर आई होगी तो कई अधिकारी समय पर मौके पर पहुंचने की स्थिति में नहीं थे. अगर वे किसी तरह पहुंच भी जाते हैं तो शराब के नशे में अधिकारी उतना काम नहीं कर पाते जितना एक सामान्य अधिकारी कर सकता है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments