Thursday, February 2, 2023
Google search engine
Homeप्रदेशराजस्थानराजस्थान: दिव्या मदेरणा ने ओबीसी आरक्षण को लेकर सरकार पर साधा निशाना

राजस्थान: दिव्या मदेरणा ने ओबीसी आरक्षण को लेकर सरकार पर साधा निशाना


जयपुर: राजस्थान के ओसियां ​​से कांग्रेस विधायक दिव्या मदेरणा हमेशा बेबाक बयान देती हैं. दिव्या मदेरणा राजस्थान की जनता से जुड़े किसी भी मुद्दे पर अपनी राय रखती हैं। अब एक बार फिर विधायक दिव्या मदेरणा सुर्खियों में हैं। एक बार फिर उन्होंने ट्विटर पर अपनी मन की बात लिखते हुए ओबीसी आरक्षण पर चर्चा करने के साथ ही सरकार से तीखे सवाल पूछकर नौकरशाही पर तंज कसा है.

दिव्या मदेरणा ने सरकार पर तंज कसते हुए कहा है कि अशोक गहलोत जी और गोविंद सिंह डोटासरा जी ने ओबीसी विसंगतियों के जल्द समाधान का आश्वासन देने के एक महीने से अधिक समय के बाद भी 17 अप्रैल, 2018 के परिपत्र को वापस नहीं लिया है। क्या नौकरशाही भी इस पर भारी पड़ रही है?

इसके बाद कहा कि ओबीसी युवा यह नहीं समझ पा रहे हैं कि सरकार के सामने क्या मजबूरी थी कि उक्त मामले को 09.11.2022 की कैबिनेट बैठक में मंजूरी नहीं दी जा सकी. जबकि मुख्यमंत्री और पीसीसी प्रमुख दोनों ही इस ओबीसी वर्ग से आते हैं। सरकार 17 अप्रैल, 2018 के परिपत्र को तत्काल प्रभाव से वापस ले सकती है।

मुख्यमंत्री को पत्र भी लिखा गया है।

दिव्या मदेरणा ने मुख्यमंत्री को पत्र भी लिखा है। लिखा है कि सितंबर में राज्य स्तरीय आंदोलन के बाद प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा से बातचीत में कहा गया था कि सरकार अगले 48 घंटे में इसका निपटारा कर देगी. यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि डेढ़ महीने बाद भी सरकार ने इस पर कोई फैसला नहीं लिया और कैबिनेट बैठक में इस प्रस्ताव पर चर्चा तक नहीं की. दिव्या मदेरणा ने अपने पत्र में लिखा है कि राज्य के लाखों ओबीसी युवा सरकार की ओर देख रहे हैं, सरकार इस पर जल्द फैसला करे.

यह है पूरा मामला

ओबीसी आरक्षण संघर्ष समिति के अनुसार राजस्थान में ओबीसी वर्ग को 21 प्रतिशत आरक्षण मिला है, लेकिन वर्ष 2018 में सरकार के कार्मिक विभाग ने ओबीसी की भर्ती में भूतपूर्व सैनिकों का कोटा निर्धारित किया है, जिससे भूतपूर्व सैनिक इस कोटे का फायदा उठा रहे हैं। वहीं ओबीसी वर्ग के अन्य उम्मीदवारों को मौका नहीं मिल रहा है.

यह है मांग

संघर्ष समिति की मांग है कि भर्ती को लेकर विभाग द्वारा बनाए गए उपनियमों को वापस लिया जाए और पूर्व सैनिकों का कोटा अलग से तय किया जाए, जो ओबीसी वर्ग के 21 फीसदी आरक्षण से अलग है.

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments