Tuesday, January 31, 2023
Google search engine
Homeप्रदेशमध्य प्रदेशNews24 प्रभाव: News24 ने मध्य प्रदेश में उर्वरक संकट पर उठाया मुद्दा,...

News24 प्रभाव: News24 ने मध्य प्रदेश में उर्वरक संकट पर उठाया मुद्दा, उठी शिवराज सरकार, बुलाई बैठक


विपिन श्रीवास्तव, भोपाल: News24 की खबर का असर मध्यप्रदेश में खाद संकट पर देखने को मिला है. खबर प्रसारित होने के कुछ घंटे बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आपात बैठक बुलाई। सीएम शिवराज ने उर्वरकों से संबंधित विभागीय मंत्रियों की मौजूदगी में वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए सभी जिलाधिकारियों से चर्चा कर निर्देश दिए.

सीएम शिवराज ने दिए ये निर्देश

उन्होंने कहा कि “किसानों को किसी भी जिले में लाइन में नहीं लगना चाहिए। जिलों में खाद वितरण सुचारू होगा. किसानों को खाद लेने के लिए दूर-दूर से नहीं आना पड़ेगा। इस काम में अतिरिक्त स्टाफ लगाएं। वितरण केंद्रों पर पेयजल की प्रतीक्षा की जाए साथ ही वितरण के लिए अतिरिक्त केंद्र शुरू किए जाएं।

कलेक्टरों की निगरानी में रखी जाए व्यवस्था

सीएम ने कहा है कि किसानों को खाद आसानी से मिल जाए. वितरण केंद्र के पास टेंट, बैठक की व्यवस्था और पीने के पानी की व्यवस्था की जाए. उपलब्धता के बावजूद वितरण प्रणाली के अभाव में किसान को किसी भी प्रकार की समस्या का सामना नहीं करना पड़े। कलेक्टर पूरी व्यवस्था पर नजर रखें ताकि किसान को लाइन में न लगना पड़े, जिससे उसका समय और ऊर्जा बर्बाद न हो।

सीएम ने कहा कि प्रदेश में न तो खाद की कमी है और न ही आने वाले समय में कोई कमी होगी. वह केंद्रीय रसायन और उर्वरक मंत्री मनसुख मंडाविया के नियमित संपर्क में हैं।

बता दें कि इस बैठक में कृषि मंत्री कमल पटेल, राजस्व मंत्री गोविंद सिंह राजपूत, सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्री ओमप्रकाश सखलेचा सहित विभाग के अधिकारी मौजूद रहे.

वीडियो से समझें खाद की समस्या

दरअसल, मध्य प्रदेश में रबी की फसल बोने का समय हो गया है. इस समय खाद की मांग सबसे ज्यादा है। प्रदेश के कई जिलों में उर्वरक यूरिया की किल्लत शुरू हो गई है. किसानों को उनकी जरूरत की मात्रा नहीं मिल रही है।

इन जिलों में गरमा गया मुद्दा

शिवपुरी जिले के करेरा स्थित उर्वरक वितरण केंद्र पर लंबे इंतजार के बाद भी खाद नहीं मिलने से नाराज किसान महिलाओं ने खाद वितरण केंद्र के कर्मचारी का कॉलर पकड़ लिया है. विदिशा जिले के सिरोंज में किसान खाद वितरण केंद्र पर लाइन से जमीन पर अपने दस्तावेज लगाकर अपनी बारी का इंतजार कर रहे हैं. किसान धनराज, किसान रफीज और किसान कुंदन सिंह ने बताया कि खाद के लिए उन्हें 2 से 3 दिन इंतजार करना पड़ता है, पीने के पानी की कोई व्यवस्था नहीं है और न ही किसी प्रकार के बैठने की व्यवस्था है.

गुना जिले में किसान की हत्या

गुना जिले के कुंभराज में सोसायटी के बाहर खाद की लाइन में लगे कुंभराज निवासी रामप्रसाद की 21 अक्टूबर को चक्कर आने से मौत हो गई थी. ये आरोप रामप्रसाद के परिजनों ने लगाए हैं. राजगढ़ जिले में खाद ट्रक के लोगों ने खाद को भी लूट लिया है.

राजधानी में रुक-रुक कर हो रही यूरिया की आपूर्ति

वहीं, भोपाल जिले के गांव कोदिया स्थित उर्वरक वितरण केंद्र पर किसानों को डीएपी मिल रहा है, लेकिन बीच-बीच में यूरिया की आपूर्ति की जा रही है. लेकिन यूरिया कैश में नहीं मिल रहा है। किसान परेशान थे, उन्होंने कहा कि डिफॉल्टर होने से उन्हें यूरिया नहीं मिलेगा, वहीं कुछ किसानों का कहना है कि खाद समय पर नहीं मिल रही है और जो मात्रा मिल रही है वह नाकाफी है.

वहीं उर्वरक वितरण केंद्र के प्रबंधक मोहन प्रसाद सेन का कहना है कि डीएपी दिया जा रहा है, यूरिया उन्हीं को दिया जा रहा है जो पंजीकृत किसान हैं. जो डिफॉल्टर किसान हैं, उन्हें यूरिया आते ही बांट दिया जाएगा।

किसान नेता कक्काजी ने भी की खाद आपूर्ति की मांग

किसान नेता शिव कुमार शर्मा कक्काजी का कहना है कि किसानों को यूरिया डीएपी की समस्या है जिसे दूर किया जाए.

सीएम शिवराज ने 7 दिन पहले ली है बैठक

2 नवंबर को पन्ना के दौरे के दौरान जब किसानों को हो रही खाद की समस्या की जानकारी सीएम शिवराज तक पहुंची तो मुख्यमंत्री ने फौरन सहकारिता विभाग के अधिकारियों और मार्कफेड समेत मार्कफेड के प्रबंध निदेशक की बैठक बुलायी. सीएम हाउस में सहकारिता मंत्री अरविंद भदौरिया। सीएम ने कहा था कि खाद को लेकर पहले भी निर्देश दिए जा चुके हैं. फिर भी कहीं से प्राप्त शिकायतों को गंभीरता से लेते हुए तत्काल व्यवस्था में सुधार किया जाए।

सहकारिता मंत्री ने कहा कि उर्वरक की मांग बढ़ी है

बैठक में उर्वरक आपूर्ति को लेकर मौजूद सहकारिता मंत्री ने बताया कि इस बार उत्पादन बहुत अच्छा हुआ है इसलिए उर्वरकों की मांग बढ़ी है, मंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश में 6 लाख मीट्रिक टन की मांग में से प्रदेश में अब तक 3,64 लाख मीट्रिक टन प्राप्त हो चुका है, जबकि डीएपी का भी यही हाल है, जिसे 4 लाख मीट्रिक टन के बदले 2.65 लाख मीट्रिक टन मिला है.

उन्होंने आगे कहा कि बाकी आपूर्ति भी आने वाले दिनों में की जाएगी। कहीं-कहीं लाइन में खड़े होने से किसानों को परेशानी हो रही है, लेकिन वितरण केंद्र बढ़ाकर जल्द ही इसे दूर कर लिया जाएगा। हालांकि मंत्री अरविंद भदौरिया ने यह भी कहा कि कमलनाथ सरकार में कर्जमाफी नहीं होने से किसान डिफॉल्टर हो गए हैं, वे थोड़े परेशान हो रहे हैं, लेकिन अपनी सुविधा के लिए वे नगद भुगतान कर यूरिया खाद भी ले सकते हैं.

कांग्रेस ने कहा सरकार किसान विरोधी

यूरिया खाद की किल्लत से न सिर्फ किसान परेशान हैं, बल्कि अब इस पर राजनीति भी शुरू हो गई है. भाजपा सरकार को किसान विरोधी बताते हुए कांग्रेस कह रही है कि यूरिया की किल्लत से किसान परेशान हैं, किसानों को लंबी कतारों में बैठना पड़ रहा है और औपचारिकता पूरी करने के लिए ही मुख्यमंत्री बैठक कर रहे हैं.

कांग्रेस के पूर्व मंत्री पीसी शर्मा का कहना है कि कमलनाथ सरकार ने किसानों का कर्ज माफ किया, लेकिन सरकार छोड़ने के बाद उन जगहों पर डिफॉल्टर किसानों को खाद नहीं मिल रही है, जिनका कर्ज माफ नहीं हो सका. उर्वरक यूरिया की आपूर्ति को लेकर सरकार ने कोई तैयारी नहीं की।

उर्वरक वितरण समस्या को लेकर एक्शन में आए सीएम शिवराज सिंह चौहान, देखें वीडियो

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments