Wednesday, February 1, 2023
Google search engine
Homeप्रदेशछत्तीसगढ़रंगोली बनाने वालों के लिए वरदान बनी आईएसबीएम यूनिवर्सिटी

रंगोली बनाने वालों के लिए वरदान बनी आईएसबीएम यूनिवर्सिटी


रायपुर: आई एस बी एम विश्वविद्यालय छत्तीसगढ़ उन विश्वविद्यालयों में से एक है जहां से निकलने वाले छात्रों ने न केवल देश बल्कि दुनिया का नाम रौशन किया है। ISBM University देश और राज्य में अपने समाज की कला और विज्ञान को बढ़ावा देने में कोई कसर नहीं छोड़ती है।

अपने छात्रों के साथ-साथ समाज के साथ चलने वाले विश्वविद्यालय ने विश्वविद्यालय के बाहर पाई जाने वाली कला की सराहना की। इतना ही नहीं आईएसबीएम यूनिवर्सिटी के चांसलर विनय अग्रवाल ने इस कला को गोल्डन बुक्स ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में भी दर्ज करा दिया है।

आपको बता दें कि रायपुर के न्यू राजेंद्र नगर स्थित भगवान महावीर के जिनालय में भगवान महावीर के जीवन पर कुछ रंगोली का संग्रह किया गया था. ये रंगोली जन्म से लेकर मोक्ष तक महावीर के जीवन के पहलुओं की झलक दिखा रही थी। विनय अग्रवाल इस कला से इतने मोहित हुए कि उन्होंने इस कला के संग्रह को गोल्डन बुक्स ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज करा दिया।

इस रंगोली के शानदार संग्रह को देखने के लिए क्षेत्र के कई अधिकारी और विधायक पहुंचे, जिसमें सभी ने इस कला की सराहना की और जिनालय को विश्व रिकॉर्ड की गोल्डन बुक्स में शामिल होने पर बधाई भी दी।

वहीं इस कला को जैन के जिनालय में प्रदर्शित किया गया था और भगवान महावीर को समर्पित किया गया था, जिसके कारण जैन धर्म के कई संत भी मौजूद थे और इस अवसर पर दुनिया ने जैन धर्म के विचार को कोरोना काल में कैसे अपनाया। उदाहरण प्रस्तुत किया।

उन्होंने कहा कि कोरोना काल में जब दुनिया महामारी से लड़ रही थी और दुनिया के पास कोई विकल्प नहीं था. उस समय दुनिया के डॉक्टर ने जैन धर्म में पालन की जाने वाली परंपरा को ही अपनाने का निर्देश दिया, ताकि किसी को कोरोना से बचाया जा सके।

दरअसल, कोरोना में गर्म पानी, मुंह पर मास्क, साफ-सफाई और हाथ धोने की हिदायत समय-समय पर दी जाती थी, जिसे आज भी अपनाया जा रहा है और इसे सालों से जैनियों में परंपरा के तौर पर अपनाया जाता रहा है.

गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में नाम शामिल

आईएसबीएम यूनिवर्सिटी के चांसलर विनय अग्रवाल ने इस कला को गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में शामिल कर दुनिया के सामने भक्ति की मिसाल कायम की है. साथ ही यह कला इस बात की ओर भी इशारा करती है कि अगर हम किसी आस्था और अपने काम में पूरे मन और लगन से काम करें तो हमें दुनिया में अपनी पहचान बनाने से कोई नहीं रोक सकता।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments