Thursday, December 8, 2022
Google search engine
Homeहेल्थलड़के के चेहरे पर बड़े-बड़े बाल उग आए...लोग बाल हनुमान मान रहे...

लड़के के चेहरे पर बड़े-बड़े बाल उग आए…लोग बाल हनुमान मान रहे हैं…हकीकत आपके होश उड़ा देगी!


ललित पाटीदार रोग वेयरवोल्फ सिंड्रोम: मध्य प्रदेश के रतलाम के रहने वाले एक लड़के की फोटो इन दिनों इंटरनेट और सोशल मीडिया पर वायरल है. इस लड़के का नाम ललित पाटीदार है, जिसके चेहरे पर लंबे बाल हैं। उनके चेहरे पर बाल होने के कारण कोई उन्हें जामवंत नाम से पुकार रहा है तो कोई उन्हें बाल हनुमान कहकर उनकी पूजा कर रहा है। जबकि असल हकीकत यह है कि ललित वेयरवोल्फ सिंड्रोम नाम की एक गंभीर बीमारी से ग्रसित है, जिसके कारण उसके चेहरे पर लंबे बाल उग आते हैं।

ललित पाटीदार रोग वेयरवोल्फ सिंड्रोम
ललित पाटीदार अपने परिवार के साथ

इस खबर में हम आपको वेयरवोल्फ सिंड्रोम नाम की बीमारी के बारे में विस्तार से बता रहे हैं। स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार यह एक तरह की लाइलाज बीमारी है, जिसका कोई इलाज नहीं है। जानिए क्या है वेयरवोल्फ सिंड्रोम, क्या हो सकते हैं इसके कारण और इलाज। कोई भी व्यक्ति जो वेयरवोल्फ सिंड्रोम नामक बीमारी से पीड़ित होता है, उसके शरीर के कई हिस्सों पर बाल उग आते हैं। इससे खाने, सांस लेने आदि में दिक्कत होती है।

वेयरवोल्फ सिंड्रोम क्या है?

वेयरवोल्फ सिंड्रोम को हाइपरट्रिकोसिस के नाम से भी जाना जाता है। यह एक तरह की दुर्लभ बीमारी है, जो महिला और पुरुष दोनों को हो सकती है। इससे चेहरे और पूरे शरीर पर बालों की असामान्य वृद्धि भी हो सकती है। इतना ही नहीं शरीर के कुछ हिस्सों में छोटे-छोटे पैच भी हो जाते हैं। हाइपरट्रिचोसिस कई प्रकार का हो सकता है।

हाइपरट्रिचोसिस के कारण (वेयरवोल्फ सिंड्रोम)

इसके कुछ खास कारण सामने नहीं आते, लेकिन कहा जाता है कि एक ही परिवार के लोगों में यह अधिक होता है। जन्मजात हाइपरट्रिचोसिस बालों के विकास के लिए जिम्मेदार एक जीन के पुनर्सक्रियन के कारण होता है, जो शुरुआती मनुष्यों में बालों के अत्यधिक विकास के लिए जिम्मेदार था, लेकिन जैसे-जैसे मानव विकास के माध्यम से आगे बढ़ा, इस जीन को खामोश कर दिया गया, हालांकि कई मामलों में, यह जीन फिर से सक्रिय हो जाता है जब बाल विकास होता है। बच्चा अभी मां के गर्भ में है।

वेयरवोल्फ सिंड्रोम जन्म के बाद भी हो सकता है

वहीं दूसरी ओर बच्चे के जन्म के कुछ साल बाद भी वेयरवोल्फ सिंड्रोम के मामले सामने आए हैं। इसके पीछे स्टेरॉयड दवा के साइड इफेक्ट, कुपोषण, ईटिंग डिसऑर्डर कारण हैं।

हाइपरट्रिचोसिस (वेयरवोल्फ सिंड्रोम) को कैसे नियंत्रित करें

मेडिकल न्यूज टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक अगर आप इस बीमारी से होने वाली परेशानियों से बचना चाहते हैं तो नीचे दिए गए नुस्खों को आजमा सकते हैं। इससे पहले विशेषज्ञों की सलाह लेना बेहद जरूरी है। क्योंकि बालों को हटाना केवल वेयरवोल्फ सिंड्रोम या हाइपरट्रिचोसिस के इलाज के लिए एक अल्पकालिक उपाय है, इसका कोई निश्चित इलाज नहीं है।

  • बाल नोचना
  • बालों का विरंजन
  • हजामत बनाने का काम
  • बाल निकालना
  • वैक्सिंग
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments