Thursday, February 9, 2023
Google search engine
Homeहेल्थप्रदूषण से लड़ने के लिए खाद्य पदार्थ: प्रदूषण के दुष्प्रभाव से बचाते...

प्रदूषण से लड़ने के लिए खाद्य पदार्थ: प्रदूषण के दुष्प्रभाव से बचाते हैं ये 5 चीजें, आज से ही खाना शुरू कर दें


प्रदूषण से लड़ने के लिए बढ़ाएं रोग प्रतिरोधक क्षमता : दिवाली के बाद से दिल्ली और एनसीआर में प्रदूषण का स्तर कई गुना बढ़ गया है, जिससे हवा में प्रदूषण और धुंध का मोती बन गया है. इससे लोग कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं का शिकार हो रहे हैं जैसे आंखों में जलन और सांस लेने में तकलीफ और गले में खराश आदि।

ऐसे में प्रदूषित हवा में सांस लेने के लिए आपको अपने फेफड़ों का खास ख्याल रखने की जरूरत है। इसलिए आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि प्रदूषित हवा से बचने के लिए आपको क्या खाना चाहिए। जिसे अगर आप अपनी डाइट में शामिल करते हैं तो प्रदूषित हवा के संपर्क में आने से बच जाते हैं, तो आइए जानते हैं आपको क्या करना चाहिए, तो आइए जानते हैं प्रदूषण से बचने के लिए खाद्य पदार्थ-

बढ़ते प्रदूषण में क्या खाएं?- प्रदूषण से लड़ने के लिए रोग प्रतिरोधक क्षमता क्या बढ़ाएं in Hindi

हल्दी

हल्दी में करक्यूमिन नामक यौगिक होता है। इसलिए हल्दी के सेवन से आपके फेफड़े मजबूत होते हैं। साथ ही हल्दी आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करती है। ऐसे में बढ़ते प्रदूषण के प्रभाव को रोकने के लिए रोजाना हल्दी वाला दूध, हल्दी और घी आदि का सेवन करें।

पटसन के बीज

अलसी के बीज में ओमेगा 3 फैटी एसिड होता है। इसके अलावा अलसी में फाइटोएस्ट्रोजन भी मौजूद होता है। जिससे यह आपके फेफड़ों को धुएं के दुष्प्रभाव से बचाने में मददगार साबित हो सकता है। इतना ही नहीं अलसी अस्थमा और एलर्जी को रोकने में भी मदद करता है। अलसी का सेवन आप स्मूदी या सलाद आदि के रूप में कर सकते हैं।

टमाटर

टमाटर में बीटा कैरोटीन, विटामिन सी और लाइकोपीन नामक एंटीऑक्सीडेंट होते हैं। टमाटर में मौजूद पोषक तत्व आपके श्वसन तंत्र को मजबूत बनाते हैं। इसके साथ ही टमाटर के सेवन से वायुमार्ग की सूजन भी कम हो जाती है। बढ़ते प्रदूषण में टमाटर के सेवन से अस्थमा जैसी समस्या कम हो जाती है।

अभिभावक

पालक बीटा कैरोटीन, ल्यूटिन और क्लोरोफिल जैसे गुणों से भरपूर होता है। इसलिए इसका सेवन करने से आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। पालक खाने से आपके फेफड़े मजबूत होते हैं। इसके अलावा पालक में एंटीऑक्सीडेंट, मैग्नीशियम जैसे गुण भी होते हैं, जो आपके फेफड़ों को धुएं या धुंध आदि से लड़ने के लिए तैयार करते हैं।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments