Sunday, February 5, 2023
Google search engine
Homeबिजनेसबंद हो गई है 2000 रुपये के नोट की छपाई? RTI...

बंद हो गई है 2000 रुपये के नोट की छपाई? RTI के जवाब में सामने आई ये बड़ी जानकारी


नई दिल्ली: एक आरटीआई के जवाब से पता चला है कि 2019-20, 2020-21 और 2021-22 के दौरान 2,000 रुपये के नए नोट नहीं छापे गए। आईएएनएस द्वारा दायर आरटीआई आवेदन से पता चला है कि भारतीय रिजर्व बैंक नोट मुद्रण (पी) लिमिटेड ने वित्तीय वर्ष 2016-17 में 2,000 रुपये मूल्यवर्ग के 3,542.991 मिलियन नोट छापे थे, जो 2017-18 में काफी कम होकर 111.507 मिलियन नोट हो गए थे। और कम कर दिया गया। 2018-19 में 46.690 मिलियन नोट छापे गए।

अभी-अभी पढ़ना क्या दिल्ली, यूपी, पंजाब समेत इन जगहों पर हो गई है अमूल बटर की कमी? ग्राहक और दुकानदार दोनों की शिकायत

भारतीय रिजर्व बैंक नोट मुद्रण (पी) लिमिटेड से प्राप्त आरटीआई के जवाब से पता चला है कि 2,000 रुपये मूल्यवर्ग के ‘0’ के करेंसी नोट 2019-20, 2020-21 और 2021-22 में मुद्रित किए गए थे।

सरकार द्वारा 500 रुपये और 1,000 रुपये के पुराने नोटों पर प्रतिबंध लगाने की घोषणा के बाद 8 नवंबर, 2016 को भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा 2,000 रुपये का नोट पेश किया गया था।

संसद में एक हालिया जवाब (1 अगस्त को) में कहा गया है कि एनसीआरबी के आंकड़ों के अनुसार, देश में जब्त किए गए 2,000 रुपये के नकली नोटों की संख्या 2016 और 2020 के बीच 2,272 से बढ़कर 2,44,834 हो गई है।

आंकड़ों के अनुसार, 2016 में देश में जब्त किए गए 2,000 रुपये के नकली नोटों की कुल संख्या 2,272 थी, जो 2017 में बढ़कर 74,898 हो गई, जो 2018 में घटकर 54,776 हो गई। 2019 में यह 90,566 नोट, 2020 में 2,44,834 नोट थे। जो एक उल्लेखनीय स्पाइक था।

अभी-अभी पढ़ना आर्कियन केमिकल आईपीओ आज खुला: क्या मुझे आज खुलने जा रहे नए आईपीओ में निवेश करना चाहिए? जानें – सब कुछ

सरकार की ओर से कहा गया था कि नकली नोटों को रोकने के उपायों पर आरबीआई बैंकों को विभिन्न निर्देश जारी करता है। केंद्रीय बैंक नियमित रूप से बड़ी मात्रा में नकदी का प्रबंधन करने वाले बैंकों और अन्य संगठनों के कर्मचारियों/अधिकारियों के लिए जाली नोटों का पता लगाने के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित करता है। वहीं, अब आरटीआई के जवाब में कहा गया है कि 2019-2022 से 2000 रुपये के नए नोट नहीं छापे गए.

अभी-अभी पढ़ना व्यवसाय से जुड़ा हुआ समाचार यहां पढ़ना

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments