Wednesday, February 1, 2023
Google search engine
Homeधर्म/ज्योतिषनवंबर में आएंगे ये हिंदू त्योहार, जानिए कौन सा दिन है कौन...

नवंबर में आएंगे ये हिंदू त्योहार, जानिए कौन सा दिन है कौन सा त्योहार


हिंदू त्योहार: पूर्णिमा तिथि समाप्त होने के बाद बुधवार, 9 नवंबर से मार्गशीर्ष मास की शुरुआत होगी। हिंदू धर्म की मान्यताओं के अनुसार यह बहुत ही शुभ महीना माना जाता है। इस महीने में कई धार्मिक त्योहार और त्यौहार आएंगे। उनकी जानकारी इस प्रकार है-

नवंबर-दिसंबर के महीने में आएगी हिंदू त्योहारों की लिस्ट

संकष्टी गणेश चतुर्थी व्रत – इस महीने संकष्टी चतुर्थी व्रत 12 नवंबर को है. इस दिन गजानन गणेश की पूजा करने से व्यक्ति की सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। शाम को चांद दिखने के बाद पूरे दिन का व्रत तोड़ना होता है।

कालभैरव अष्टमी- इस बार कालभैरव अष्टमी 16 नवंबर (बुधवार) को है। यह दिन सूर्य संक्रांति का भी पर्व है इसलिए इस दिन का महत्व और भी बढ़ गया है। इस दिन भगवान शिव के अंशावतार कालभैरव की पूजा करने से कुण्डली में अशुभ फल देने वाले बुरे ग्रह भी शुभ फल देने लगते हैं.

उत्पन्ना एकादशी- मार्गशीर्ष के महीने में कृष्ण पक्ष की एकादशी को उत्पन्ना एकादशी कहा जाता है। इस बार यह पर्व 20 नवंबर (रविवार) को आ रहा है। इस दिन व्रत, पूजन आदि से भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी को प्रसन्न करने का प्रयास किया जाता है। इस एकादशी का व्रत करने से व्यक्ति के सभी पाप नष्ट हो जाते हैं।

मार्गशीर्ष मास की अमावस्या 23 नवंबर को मार्गशीर्ष मास की अमावस्या है। इस दिन श्राद्ध और तर्पण करने से पूर्वजों और पूर्वजों को शांति और आशीर्वाद मिलता है।

विवाह पंचमी – इस बार 28 नवंबर को विवाह पंचमी है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार विवाह पंचमी के दिन ही भगवान श्रीराम और सीता का विवाह संपन्न हुआ था। इस दिन रामचरित मानस में दिए गए राम-जानकी विवाह का पाठ करने से शीघ्र विवाह के योग बनते हैं।

मोक्षदा एकादशी – मार्गशीर्ष मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को मोक्षदा एकादशी कहते हैं। इस बार यह 3 दिसंबर को आ रही है। माना जाता है कि इसी दिन श्रीमद्भागवत गीता की उत्पत्ति भी हुई थी। एकादशी के दिन भगवान विष्णु को प्रसन्न करने के लिए पूजा और अन्य अनुष्ठान किए जाते हैं।

दत्तात्रेय जयंती – मार्गशीर्ष मास की पूर्णिमा के दिन भगवान दत्तात्रेय का जन्म हुआ था। इसलिए इस दिन दत्तात्रेय जयंती भी मनाई जाती है। यह पर्व 7 दिसंबर को मनाया जाएगा।

मार्गशीर्ष पूर्णिमा – मार्गशीर्ष पूर्णिमा 8 दिसंबर को मनाई जाएगी। इस दिन देश की पवित्र नदियों और सरोवरों में स्नान कर दान-पुण्य किया जाता है। ऐसा माना जाता है कि ऐसा करने से व्यक्ति के सभी पाप नष्ट हो जाते हैं और उसे अनंत पुण्य की प्राप्ति होती है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments