Thursday, February 2, 2023
Google search engine
Homeधर्म/ज्योतिषगुरुवार के दिन करें यह अचूक उपाय, धन की वर्षा होगी

गुरुवार के दिन करें यह अचूक उपाय, धन की वर्षा होगी


गुरुवर के ऊपर: आज नवंबर 2022 महीने का दूसरा गुरुवार और मार्गशीर्ष महीने का पहला गुरुवार है. बृहस्पतिवार को भी। गुरुवार गुरु से बनता है और बृहस्पति एक महत्वपूर्ण ग्रह है। इतना ही नहीं बृहस्पति को देवताओं का गुरु भी कहा जाता है।

धार्मिक मान्यता के अनुसार गुरुवार को भगवान विष्णु का दिन माना जाता है। इस दिन विषाणु की विशेष रूप से जांच-पड़ताल की। विष्णु को जगत में छिपाना भी कहा जाता है। भगवान विष्णु की कृपा से सभी प्रकार के कष्टों से मुक्ति मिलती है।

गुरुवार को धन और समृद्धि की प्राप्ति के लिए भगवान विष्णु की पूजा करने का सबसे अच्छा दिन माना जाता है। मान्यता के अनुसार गुरुवार के दिन विधिवत भगवान विष्णु की पूजा करने से व्यक्ति का जीवन खुशियों से भर जाता है। गुरुवार के दिन लक्ष्मी और नारायण दोनों की एक साथ पूजा करने से जीवन में खुशियां आती हैं और पति-पत्नी के बीच कभी भी दूरियां नहीं आती हैं। साथ ही धन में भी वृद्धि हुई है।

गुरुवार के दिन केसर, पीला चंदन या हल्दी का दान करना बहुत शुभ माना जाता है। ऐसा करने से गुरु बलवान बनता है, जिससे स्वास्थ्य और सुख में वृद्धि होती है। साथ ही घर में सुख-शांति का वास है। यदि आप इनका दान नहीं कर पा रहे हैं तो इन्हें तिलक के रूप में लगाने से कोई समस्या नहीं है।

गुरुवार के दिन पूजा करते समय विष्णु जी की आरती और चालीसा का पाठ करना चाहिए। साथ ही कुछ मंत्रों का भी ध्यान रखना चाहिए। ऐसा करने से जातक की मनोकामनाएं पूरी होती हैं और भक्तों पर विष्णु जी की कृपा भी बनी रहती है। भगवान विष्णु जी के मंत्र।

विष्णु के मंत्र

विष्णु रूप पूजा मंत्र-शांत करम नाग शय्या कमल नाभि देवताओं के स्वामी।

विश्वधारा, आकाश की तरह, बादल के रंग का, शुभ।

योगियों द्वारा प्रिय, कमल-आंखों वाली लक्ष्मी का ध्यान किया जाता है।

नमः नारायणायः

नमः श्री वासुदेवाय।

नारायणाय विद्यामहे। वासुदेवाय धीमहि।

तेन्नो विष्णु प्रचोदयात।

मैं मृत्यु के भय का नाश करने वाले, समस्त लोकों के स्वामी विष्णु की पूजा करता हूं।

श्री कृष्ण गोविंदा हरे मुरारे। हे भगवान नारायण वासुदेव।

विष्णु का बीज मंत्र

ब्रं बृहस्पतिया नमः।

क्लीं बृहस्पतिया नमः।

ओम ग्राम ग्रिम ग्रुम सा: ओम गुरु को।

ऐं श्रीं बृहस्पतिया नमः।

Om गम गुरुवे नमः।

Om अस्य बृहस्पति नमः (सिर पर)

Om अनुषुपा छंदसे नमः (चेहरे पर)

सुराचार्य देवतयै नमः (हृदय)

Om ब्रं बिजय नमः: (गुफा को)

ओम शक्तिय नामाह: (पैरों पर 🙂

Om विनियोगय नमः (सभी भागों में)

  • गुरु के दोषों को दूर करने के लिए गुरुवार के दिन नहाने के पानी में एक चुटकी हल्दी मिलाकर स्नान करें।
  • स्नान का समय’Om ब्र बृहस्पते नमः’ भी जप करें।
  • ‘ओम नमो भागवात वासुदेवया’
  • गुरुवार का व्रत रखें और केले के पौधे पर जल चढ़ाएं और पूजा करें। ऐसा करने से विवाह में आ रही रुकावटें दूर होती हैं और अगर आप शादीशुदा हैं तो आपके वैवाहिक जीवन में कोई समस्या नहीं आएगी।
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments