Tuesday, January 31, 2023
Google search engine
Homeधर्म/ज्योतिषगणेश चतुर्थी पर ये उपाय करेंगे दुर्भाग्य

गणेश चतुर्थी पर ये उपाय करेंगे दुर्भाग्य


संकष्टी चतुर्थी 2022: हिन्दू पंचांग के अनुसार मार्गशीर्ष मास में कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को संकष्टी चतुर्थी कहते हैं। ज्योतिष शास्त्र में चतुर्थी तिथि भगवान गणेश को समर्पित है। इसलिए पूरे साल अलग-अलग चतुर्थी पर गणपति के अलग-अलग रूपों की पूजा की जाती है।

संकष्टी चतुर्थी पर, भक्त महा गणपति के रूप में भगवान गणेश की पूजा करते हैं। यहाँ इस संकष्टी चतुर्थी व्रत तिथि, शुभ मुहूर्त और पूजा विधि के बारे में पूरी जानकारी दी जा रही है जो आपके लिए उपयोगी साबित होगी।

संकष्टी चतुर्थी व्रत और पूजा मुहूर्त कब है (संकष्टी चतुर्थी 2022 तिथि और मुहूर्त)

ज्योतिषियों के अनुसार संकष्टी चतुर्थी 11 नवंबर 2022 (शुक्रवार) को रात 8.17 बजे से शुरू होकर 12 नवंबर 2022 (शनिवार) को रात 10.25 बजे समाप्त होगी.

यह भी पढ़ें: सुख-समृद्धि-सौभाग्य पाने के लिए शनिवार के दिन ऐसे करें गणेशजी की पूजा

शनिवार का पूरा दिन पूजा के लिए शुभ माना जाता है, लेकिन इस दिन अभिजीत मुहूर्त में की गई पूजा का फल कई गुना अधिक हो जाता है, इसलिए इस दिन पूजा केवल शुभ मुहूर्त में ही करें।

संकष्टी चतुर्थी पूजा विधि क्या है?

इस दिन गणेश जी का महागणपति स्वरुप पूजा की जाती है। इसलिए सुबह जल्दी उठकर स्नान, ध्यान आदि से निवृत्त होकर स्वच्छ, धुले हुए वस्त्र धारण करें और घर के मंदिर में या पास के किसी मंदिर में जाकर गणेश जी की पूजा करें। गजानन की पूजा करने के लिए गजानन को फूल, माला, दूर्वा, चंदन का तिलक आदि चढ़ाएं और आरती करने के बाद उनके पसंदीदा मोदक का भोग लगाएं। उसके बाद उनके महामंत्र ‘ओम श्री ह्रीं क्लीं ग्लोंग गणपतिये वर वरद सर्वजनं में विस्मनया स्वाहा’ का 1008 बार जाप करें। पूजा के अंत में, अनजाने या अनजाने में हुई किसी भी गलती के लिए उससे क्षमा मांगें।

यह भी पढ़ें: शुभ विवाह मुहूर्त 2022: शादी के लिए तैयार हो रहे हैं ये 16 शुभ मुहूर्त, आज ही करवाएं बुकिंग

संकष्टी चतुर्थी पर लाभकारी होंगे ये उपाय (गणेश जी के तांत्रिक उपय)

  • यदि आपके जीवन में कोई परेशानी हो तो हाथी को अपने हाथ से गन्ना या हरा चारा खिलाएं। इससे संकट खत्म होगा।
  • धन और कर्ज को दूर करने के लिए संकष्टी चतुर्थी से रोजाना 51 बार गणेश चालीसा का पाठ करें और उन्हें रोजाना लड्डू चढ़ाएं।
  • कभी भी किसी गरीब, पशु, पक्षी, भिखारी, अपंग, किन्नर आदि का अपमान न करें। हो सके तो उनकी यथासंभव मदद करें। ऐसा करने से दुर्भाग्य भी दूर होता है।

अस्वीकरण: यहां दी गई जानकारी ज्योतिष के ज्ञान पर आधारित है और केवल सूचना के उद्देश्य से दी जा रही है। News24 इसकी पुष्टि नहीं करता है। कोई भी उपाय करने से पहले संबंधित विषय के विशेषज्ञ से सलाह जरूर लें।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments